अत्यंत दुर्लभ कीट ज्यूल बीटल

समूचे यूरोप के जंगलों में पाए जाने वाले “ज्यूल बीटल’ नामक कीट अत्यंत दुर्लभ कीट माने जाते हैं। इन कीटों की शारीरिक चमक बड़ी अनूठी होती है। इस कीट की सबसे बड़ी विलक्षणता यह है कि अण्डे से वयस्क बीटल बनने में बहुत लंबा समय लगता है। इस प्रिाया में प्रायः 40 वर्ष तक का समय भी लग जाता है। इसी से अंदाजा लगाया जा सकता है कि इस कीट का जीवनकाल कितना लंबा होता है। मादा बीटल किसी जीवित वृक्ष की छाल पर अपने अण्डे देती है और इन अण्डों से निकलने वाले लार्वे छाल के अंदर पेड़ में ही अपना भोजन तलाशते हैं। उस पेड़ को काटकर गिरा दिए जाने के बाद भी यह लार्वा उसी के भीतर रहकर अपना भोजन प्राप्त करते रहते हैं और एक पूर्ण विकसित बीटल के रूप में ही बाहर निकलते हैं। इस कीट को “स्पैंडर बीटल’ के नाम से भी जाना जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.