आखा तीज

चैत्र वदी तीज को अक्षय तृतिया आती है। वैसे तो अक्षय तृतिया यानि आखा तीज को खीचडा व आमली का भोजन बनना अनिवार्य है, तवा भी नहीं चढता है, लेकिन हम लोग ओख होने की वजह से दूज व तीज को खीचडा नहीं बनाते है। इस दिन दान पुण्य का बहुत महत्व है व कोरी मटकी, कोरी साडी पहन कर छानने का विशेष महत्व है। मटकी का दान चालनी, पानी छानने के लिए व पानी, दान में देने के लिए शक्कर व आम, मटकी पर रख देते है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.