गायब नींद का नतीजा

chronic-fatigue-syndromeआप रात में औसतन आठ घंटे की नींद लेते हैं, लेकिन फिर भी सुबह उठने पर थकन महसूस करते हैं जैसे किसी ने सारी ऊर्जा खींच ली हो। आपको लगता है कि अनियमित समय पर कामकाज करने से ऐसा हो रहा है। इसलिए आप ने जॉब बदल लिया और नियमित समय पर काम करने लगे। लेकिन फिर भी आपकी समस्या ज्यों की त्यों बनी रही। आपने अपने डॉक्टर से संपर्क किया। उसने बताया कि आप क्रोनिक फटीग सिंडोम (सीएफएस) से पीड़ित हैं। इस स्थिति में अजीब किस्म की थकन होती है, एकाग्रता कम हो जाती है और बेचैनी बढ़ जाती है। लेकिन अच्छी खबर यह है कि आप सीएफएस से छुटकारा पा सकते हैं।

अगर आप आलस भरा जीवन व्यतीत करते हैं तो सीएफएस का खतरा आपको अधिक होगा, क्योंकि आप जिस्मानी तौर पर निषिय रहते हैं। आपको वजन बढ़ने का खतरा अधिक होता है, ब्लड प्रेशर बढ़ जाता है, शुगर के स्तर में वृद्घि होती है और स्टैमिना कम हो जाता है।

अगर आप पूरे दिन थकन महसूस करते हैं, तो इसे ऩजरअंदा़ज न करें। इसका बुनियादी अर्थ है कि कोई ची़ज पटरी पर नहीं है- वह जिस्मानी भी हो सकती है और मानसिक भी। इसके कई कारण हो सकते हैं इसलिए अपना थायराइड प्रोफाइल, शुगर और कोलेस्टाल स्तर चैक करा लें। यह हल्के बुखार की वजह से भी हो सकता है जो इंफेक्शन का नतीजा होता है। बहरहाल, अगर यह सब टेस्ट नेगेटिव हैं, तो इसके सीधे अर्थ हैं कि आप तनावग्रस्त हैं जोकि सीएफएस का लक्षण है।

अगर आपको सीएफएस है तो घबराने की आवश्यकता नहीं है। आप इससे लड़ सकते हैं, बस यह सुनिश्चित कर लें कि रात 10 बजे से सुबह 6 बजे के बीच आपको कम से कम छह घंटे की नींद लेनी है। दिन में दोपहर की नींद एक घंटे से ज्यादा की नहीं होनी चाहिए और 15-30 मिनट की पावर नैप न सिर्फ स्वस्थ है बल्कि आपकी कार्यक्षमता को भी बढ़ा देती है।

रात में अच्छी व भरपूर नींद लेना, थकन को दूर करने का सबसे अच्छा तरीका है। थकन को दूर करने के लिए कई त्वरित नुस्खे हैं-

  • थोड़ी देर धूप में बैठें।
  • सिाय रहें, आलसपन छोड़ें।
  • जितना काम कर सकते हैं सिर्फ उतना ही काम लें।
  • जिन लोगों को प्यार करते हैं उनके साथ वक्त गुजारें।

बहुत ज्यादा शुगर या रिफाइंड कार्बोहाइडेट्स जैसे चावल, मैदा आदि खाना, लम्बे अंतराल पर खाना खाना और सही किस्म के फैट्स न खाने से भी आदमी थकन महसूस करता है। दिन भर के सतत ऊर्जा प्रवाह के लिए बहुत सारी हरी सब्जियॉं खायें। खाने में फल, नट्स, सीड्स, अंडा और फिश भी शामिल करें। ज्यादा कॉफी और चाय न पीयें, भले ही आपको उनसे राहत मिलती है। यह सिर्फ अस्थायी राहत होती है। इसके अलावा –

  • अपने जीवन के उन क्षेत्रों को पहचानें जिनसे तनाव होता है।
  • मन को अच्छा लगने वाला संगीत सुनें, इससे तनाव दूर होता है।
  • छोटी-सी चीज पर अधिक पसीना बहाने की जरूरत नहीं है।
  • नियमित कसरत करें। वॉकिंग, तैराकी, साइकिलिंग या कोई अन्य स्पोट्र्स चुनें- जैसे बैडमिंटन।
  • स्पा जाएँ, अच्छा मसाज हासिल करें। इससे न सिर्फ तनाव दूर होगा बल्कि नींद भी अच्छी आयेगी।
  • हॅंसी वास्तव में सबसे अच्छी दवा है। लाफ्टर क्लब के सदस्य बनें। पुराने दोस्तों से मुलाकात करें, हास्य फिल्में देखें…कोई भी ची़ज- जिससे आप खुलकर हॅंस सकें।

– डॉ. माजिद अलीम

Leave a Reply

Your email address will not be published.