दस वर्षों पश्र्चात टी वी दर्शकों से रू-ब-रू

लगभग दस वर्षों के अंतराल के बाद आशीष विद्यार्थी ने पुनः छोटे पर्दे पर अपनी उपस्थिति दर्ज करवाई है। जी टीवी पर प्रसारित होने वाले धारावहिक वारिस में आशीष केंद्रीय भूमिका निभा रहे हैं। छोटे पर्दे पर अपने लौटने को लेकर आशीष बेहद उत्साहित हैं। वे कहते हैं, मैं पिछले दस वर्षों से हिन्दी भाषी दर्शकों से दूर रहा। काफी समय बाद मुझे फिर से टेलीविजन के दर्शकों से रू-ब-रू होने का मौका मिल रहा है। इस धारावाहिक में मेरी भूमिका बेहद प्रभावशाली है। उम्मीद है, दर्शक एक बार फिर मुझे स्वीकार करेंगे। इस समय आशीष दो हिन्दी फिल्मों में भी महत्वपूर्ण भूमिकाएं निभा रहे हैं जिनमें अनंत महादेवन निर्देशित रेडअलर्ट उल्लेखनीय है। छोटी भूमिकाओं में प्रभावशाली अभिनय के कारण आशीष विद्यार्थी का नाम मौजूदा दौर के सशक्त अभिनेताओं की सूची में शामिल है।

लंबे अर्से तक छोटे पर्दे से ही नहीं बल्कि हिंदी सिनेमा से भी गायब रहने के बाद अभिनेता आशीष विद्यार्थी इन दिनों जी टीवी के नए धारावाहिक वारिस में नजर आ रहे हैं। इस बीच वे दक्षिण भारतीय फिल्मों में महत्वपूर्ण भूमिकाएं निभाते रहे। इस बारे में आशीष का कहना है कि कुछ वर्षों के लिए उन्होंने हिन्दी के दर्शकों से दूरी बना ली थी। जी टीवी के ही धारावाहिक दास्तान में उन्होंने आखिरी बार काम किया था। वे मानते हैं कि पिछले कुछ वर्षों से मैं हिन्दी दर्शकों से दूर रहा, लेकिन अब नए जोश के साथ फिर से अपने दर्शकों के बीच मौजूद हूँ। उम्मीद है दर्शक मुझे इस बार भी उतना ही प्यार देंगे।

छोटे पर्दे पर ही नहीं बल्कि बड़े पर्दे पर भी आशीष ने लोकप्रिय चरित्र अभिनेता और खलनायक के अनेकों रोल निभाएं हैं। अब जब उन्होंने दोबारा छोटे पर्दे की ओर रुख किया तो उन्हें वारिस की यह केंद्रीय और दमदार भूमिका मिली। वे इसमें रुद्र प्रताप सिंह नाम के एक ऐसे डॉन की भूमिका निभा रहे हैं, जिसका परिवार पॉवर, पॉलिटिक्स और अपराध के चंगुल में फंसा है। अपनी भूमिका के बारे में वे कहते हैं क़ि कहा जा रहा है कि वारिस में मेरी भूमिका बेहद दमदार है, लेकिन मैं ऐसा नहीं मानता। दरअसल, हर कलाकार अपने हिस्से का काम करता है और उसी में संतुष्ट भी रहता है। अब जबकि मैं काफी दिनों से अभिनय की दुनिया में हूँ, इसलिए मेरे लिये यह बात विशेष मायने नहीं रखती कि मेरी भूमिका कितनी कमजोर है या कितनी पॉवरफुल? मैं बस अपना काम ईमानदारी के साथ करने में यकीन करता हूँ। धारावाहिक वारिस में आशीष द्वारा निभाए जा रहे करेक्टर के रूप-रंग और हाव-भाव की तुलना रामगोपाल वर्मा निर्देशित सरकार के अमिताभ बच्चन से की जा रही है। आशीष भी इस बात को स्वीकारते हैं। वे कहते हैं, यह सच है, लेकिन मुझे पता नहीं कि ऐसा क्यों किया गया है? उल्लेखनीय है कि वारिस स्मृति ईरानी के प्रोडक्शन हाउस के बैनर तले बना धारावाहिक है। आशीष कहते हैं कि इस में कोई दो राय नहीं है कि एक निर्माता के रूप में स्मृति हमेशा कुछ अलग और नया करने का प्रयत्न करती हैं। वारिस में भी उन्होंने अपनी इस विशिष्टता को बरकरार रखा है। बिल्कुल लीक से हट कर है, यह शो। यह उन दर्शकों को निश्र्चित रूप से अच्छा लगेगा, जो सास-बहू वाले डामों से ऊब चुके हैं।

– आशीष विद्यार्थी

Leave a Reply

Your email address will not be published.