पंकज सारस्वत “लॉफ्टर चैलेंज” से बनी पहचान

आज ़िंजदगी की ते़ज भाग-दौड़ में किसी के पास इतना वक्त नहीं कि दो घड़ी किसी के साथ हंस-बोल ले, वरना जिम, गोल्फ आदि की तरह हंसने के लिए क्लब नहीं बनाने पड़ते। ऐसे में “स्टार वन’ चैनल पर “लॉफ्टर चैलेंज’ कार्याम बहुत लोकप्रिय हो रहा है। इसकी लोकप्रियता का अंदा़जा इसी बात से लगाया जा सकता है कि इस कार्याम की चौथी कड़ी चल रही है। इस बार इस हास्य कार्याम में महिला भी भाग ले रही है।”लॉफ्टर चैलेंज’ के निदेशक पंकज सारस्वत ने बताया कि यह कार्याम तैयार करने के लिए उन्हें कैसे सूझी? उन्होंने बताया कि हर चैनल पर संगीत, गायन, नृत्य आदि के “रियाल्टी शो’ चल रहे थे। जिस तरह लोग एक ही सब्जी खाकर तंग आ जाते हैं, उसी तरह एक ही तरह के “शो’ देख कर लोग ऊब रहे थे तो कुछ नयापन लाने के लिए मैंने कॉमेडी यानी हास्य को चुना जो लोगों को बहुत पसंद आ रहा है।

उल्लेखनीय है कि इस कार्याम की पहली तीन कड़ियों में जज के तौर पर सांसद नवजोत सिंह सिद्घू के साथ अभिनेता शेखर सुमन थे लेकिन चौथी कड़ी में शेखर सुमन की जगह अभिनेता-सांसद शत्रुघ्न सिन्हा ने ले ली है। 12-13 वर्ष से थियेटर में काम कर रहे पंकज सारस्वत ने कुछ फिल्में लिखीं और अभिनय भी किया। उनके लिखे नाटक “मैं मेरी पत्नी और वो’ में राजपाल यादव ने काम किया। इसी तरह “वैसा भी होता’ भी खूब पसंद किया गया था।

पंकज ने बताया कि वे “लॉफ्टर चैलेंज’ के प्रतियोगियों की तलाश में पाकिस्तान भी जाते हैं। हास्य की दुनिया में पाकिस्तान के शकील का नाम इसी कार्याम के कारण सबकी जुबान पर है। उन्हें इस बात का भी गर्व है कि छोटे पर्दे की दुनिया में कॉमेडी को एक विशेष मुकाम पर पहुँचाने की पहल उन्होंने की। आज सभी चैनल हास्य कार्याम पेश कर रहे हैं, लेकिन उनमें भाग लेने वाले अधिकांश कलाकारों की तलाश का श्रेय पंकज को ही जाता है।

पंकज अपनी अविस्मरणीय घटना के बारे में बताते हैं कि एक बार नवजोत सिंह सिद्घू ने उन्हें कहा था, “मैंने इतने साल िाकेट खेला, सांसद हूँ लेकिन जो पहचान “लॉफ्टर चैलेंज’ कार्याम से मिली वो पहले कभी नहीं मिली।’ ़जाहिर है उनके हंसने का अंदाज”ग्रीन रूम’ से निकल कर दुनिया भर में मशहूर हो गया। आज उनके “गुरु’ कहने के अंदाज की नकल कई हास्य कलाकार जब करते हैं तो माहौल हंसी के ठहाकों में डूब जाता है। पंकज सारस्वत आगे कहते हैं कि वह अपनी सफलता से खुश हैं और मन की इच्छा तो यही है कि हर तरह के काम करता रहूँ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.