महाराष्ट्र जिला परिषद चुनाव परिणाम भाजपा के घटते जनाधार का संकेत

maharashtra-district-council-election-resultsमहाराष्ट्र के भंडारा और गोंडिया जिले में हाल ही में हुए जिला परिषद चुनाव से इस बात के संकेत मिले हैं कि मतदाताओं के बीच भाजपा की जमीन खिसक रही है, जबकि लोकसभा और विधानसभा चुनाव में करारी हार झेलने वाली कांग्रेस और राकांपा की स्थिति में सुधार हुआ है।

गोंडिया जिला परिषद के चुनाव में शरद पवार के नेतृत्व वाली राकांपा सबसे मजबूत पार्टी रही। उसने 20 सीटें जीतीं तो कांग्रेस को 16 सीटें हासिल हुईं।

इस जिले में राकांपा को सात और कांग्रेस को छह सीटों का फायदा हुआ है। साल 2010 के चुनाव में राकांपा को 53 में से 13 और कांग्रेस को 10 सीटें मिली थी।

भाजपा की सीटों की संख्या 27 से घटकर 17 हो गई है। शिवसेना का इस बार गोंडिया के जिला परिषद चुनाव में खाता भी नहीं खुला है। साल 2010 के चुनाव में उसे एक सीट मिली थी।

भंडारा के जिला परिषद चुनाव में कांग्रेस को 52 में से 19 सीटें हासिल हुई हैं। साल 2010 के चुनाव में उसको 11 सीटें मिली थीं। पिछली बार पांच सीटें जीतने वाली राकांपा को इस बार 15 सीटें मिली हैं।

इस जिले में भाजपा को 12 सीटों का नुकसान हुआ है। पांच साल पहले उसे 25 सीटें मिली थी तो इस बार उसे सिर्फ 13 उम्मीदवार ही जीत पाए।

पिछली बार दो सीट जीतने वाली शिवसेना को इस बार एक सीट भी नहीं मिली है।

महाराष्ट्र कांग्रेस के अध्यक्ष अशोक चव्हाण ने भाजपा-शिवसेना गठबंधन पर निशाना साधते हुए कहा, ‘‘हम निरंतर मांग करते आ रहे हैं कि सरकार किसानों के कर्ज माफ करे, लेकिन यह सरकार किसानों के खिलाफ काम कर रही है। भंडारा और गोंडिया के जिला परिषद चुनाव से सत्तरूढ़ भाजपा के खिलाफ आक्रोश का पता चलता है और यह भाजपा के पतन की शुरूआत भर है।’’

Leave a Reply

Your email address will not be published.