मेजबान बेल्जियम को रोकने के लिए मैदान में उतरेंगे भारतीय

indian-mens-hockey-team भारतीय पुरष हाकी टीम जब कल एफआईएच हाकी वर्ल्ड लीग सेमीफाइनल टूर्नामेंट के फाइनल में जगह बनाने के लिए मैदान में उतरेगी तो उसकी रक्षापंक्ति के समक्ष मेजबान बेल्जियम के आक्रमण को रोकने की कड़ी चुनौती होगी। इस सेमीफाइनल मुकाबले में भारतीय रक्षापंक्ति के सामने असली चुनौती होगी क्योंकि बेल्जियम की टीम ने पिछले दो वषरें में काफी सुधार किया है और सफलता भी प्राप्त की है जिसकी वजह से वह पहली बार विश्व हाकी रैंकिंग में चौथे स्थान पर पहुंची है। विश्व में नौवें स्थान पर काबिज भारतीय टीम के लिए मेजबान टीम को हराकर फाइनल का टिकट पक्का करना आसान नहीं होगा क्योंकि बेल्जियम के खिलड़ियों ने अंतरराष्ट्रीय हाकी में अपनी मजबूत उपस्थिति दर्ज करायी है। बेल्जियम ने चैम्पियंस चैलंेज में भारत पर जीत दर्ज करने के बाद 2012 ओलंपिक खेलों और 2014 विश्व कप में भी उसे हराया है। भारत चैम्पियंस ट्राफी के लगातार दो संस्करणों में मेलबर्न और भुवनेश्वर में बेल्जियम को हराने में सफल रहा था। अपने से उंचे रैंक के बेल्जियम के खिलाफ मुकाबले के लिए तैयार भारतीय हाकी कोच पाल वान ऐस ने कहा ‘‘बेल्जियम के खिलाफ खेलना हमारे खेल के अनुकूल है। बेल्जियम व्यस्थित ढ़ंग से खेलता है और हम लोग इस मुकाबले के लिए तैयार हैं।’’ वान ऐस ने कहा कि उनकी टीम एशियन टीमों को मुश्किल प्रतिद्वंद्वी मानती है और कल के मैच में यह देखने को मिला जब मलेशिया पर 3-2 से जीत दर्ज करने के लिए भारत को कड़ी मेहनत करनी पड़ी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.