चेक

चेक

चेक एक ऐसा साधन है, जिसका इस्तेमाल बैंक से रकम निकालने के लिए किया जाता है। चेक, बैंक को ग्राहक का बिना शर्त एक आदेश है। इसमें बैंक को निर्देश दिया जाता है कि वह उल्लिखित रकम का भुगतान चेक पर लिखे नाम वाले व्यक्ति, संस्था, संगठन या कंपनी को कर दे अथवा उसके आदेशानुसार […]

भ्रम: मस्तिष्क का मायाजाल या कुछ और

आपको यह जानकर आश्र्चर्य होगा कि भ्रम की दशा हमारे मस्तिष्क की एक उलझनपूर्ण स्थिति है और इस स्थिति को समझने के लिए चिकित्सा विज्ञान में अनेक शोध चल रहे हैं। मस्तिष्क के इस रहस्य को जानने-समझने के लिए कई वैज्ञानिकों ने अपने-अपने सिद्घांत भी प्रतिपादित किए हैं, लेकिन आज तक इस रहस्य से पूरी […]

अब इकोफ्रेंडली सॉफ्टवेयर

ग्रीन होने की चाहत में, टेक्नोलॉजी उद्योग ने अब तक मुख्य रूप से बड़े निशानों पर फोकस किया है, जैसे- कार्पोरेशन्स और खासकर कंप्यूटर डाटा सेंटर्स, इंटरनेट इकनॉमी के पावरहंगरी कंप्यूटिंग रूम्स। इसके बाद आते हैं दुनियाभर के घरों में लाखों-करोड़ों डेस्कटॉप और लैपटॉप पर्सनल कंप्यूटर्स। माइाोसॉफ्ट, गैर मुनाफे वाली “क्लाइमेट सेवर्स कंप्यूटिंग इनिशियेटिव और […]

अब मोबाइल बना स्मार्ट मैनेजर

छुट्टियों में घूमने-फिरने जाने वाले 100 लोगों से बात करिये तो करीब 90 लोगों का अनुभव यही होगा कि उनकी आधी से ज्यादा छुट्टी घूमने-फिरने की व्यवस्था करने में ही गुजर गयी। जी, हॉं! एक सर्वेक्षण के दौरान यह हकीकत उभर कर सामने आयी है कि सैर-सपाटे के लिए ली गई छुट्टियों में से आधी […]

गूगल से चुटकुलों तक

दुनिया के 43 करोड़ से अधिक लोगों की इंटरनेट तक पहुँच हो चुकी है। अमेरिका और कनाडा इसमें काफी आगे हैं। दुनिया में जितने भी लोग इंटरनेट का इस्तेमाल करते हैं उसमें से 41 प्रतिशत तो सिर्फ इन्हीं देशों के हैं। यूरोपीय देशों में ब्रिटेन और जर्मनी इंटरनेट का इस्तेमाल करने वाले देशों में आगे […]

डिजिटल क्रांतिकारी का मूल आधार है माइक्रोचिप

कंप्यूटर को क्षमताओं के मामले में जादुई किसने बनाया? इस सवाल का एक ही जवाब है, “स्मॉल वंडर’ यानी माइक्रोचिप ने। अगर माइक्रोचिप का आविष्कार न हुआ होता तो न तो कंप्यूटर, टकों और घर के कमरे जैसे आकार से छोटा हो पाता और न ही इतना क्षमतावान कि उसे जादू का पिटारा समझा जाता। […]

भाई-बहन के नेह का पर्व रक्षा-बन्धन

रक्षा-बंधन श्रावण मास की पूर्णिमा को मनाया जाने वाला भाई-बहन के स्नेह का पर्व है। भारतीय-संस्कृति में प्रत्येक पर्व एवं त्योहार के पीछे कोई न कोई कथा अवश्य होती है। रक्षा-बंधन भी इससे अछूता नहीं है। कहा जाता है कि एक बार युधिष्ठिर ने सांसारिक संकटों से मुक्ति के लिए भगवान श्री कृष्ण से उपाय […]

अंग्रे़जी वर्चस्व के भाषाई संकट

अंग्रेजी वर्चस्व चाहे उसका विस्तार औपनिवेशिक साम्राज्यवादी नीतियों के लिए हुआ हो अथवा भू-मण्डलीकरण के बहाने बाजारवाद को बढ़ावा देने की दृष्टि से, विविधता को संकुचित करने और वर्गों के बीच भेद बढ़ाने की उसकी कुटिल भूमिका रही है। अंग्रेजी का साम्राज्यवादी विस्तार ब्रिटेन के रास्ते हुआ और अब आर्थिक विकास का मार्ग अमेरिका से […]

कैसे बनती है डबल रोटी?

आजकल विश्र्व के लगभग सारे देशों में डबलरोटी (ब्रेड) का उपयोग हो रहा है। लेकिन आधुनिक लोगों की पसंदीदा डबलरोटी आज से नहीं सदियों पहले से अस्तित्व में है। कहते हैं कि ईसा से 3000 वर्ष पहले मिस्र में डबल रोटी की शुरूआत हुई थी। वहां के लोग गुंधे हुए आटे में खमीर मिली टिकिया […]

बिच्छू का जहर कैंसर के निदान में

वैज्ञानिकों ने पता लगाया है कि बिच्छू के जहर में उपस्थित एक पदार्थ क्लोरोटॉक्सिन कैंसर कोशिकाओं की पहचान में मदद कर सकता है। यह खोज कैंसर उपचार में एक महत्वपूर्ण औजार साबित हो सकती है। आमतौर पर कैंसर की सर्जरी में सर्जन के सामने समस्या यह होती है कि कैंसर की कोशिकाओं को कैसे पहचानें। […]

1 2 3 4