यकीन मानिए मेरे पास बहुत पैसा नहीं है

लंदन के बिग ब्रदर में विजेता होकर अब दुनिया भर में अपने लिए नए मुकाम तलाश रही शिल्पा शेट्टी से यदि अब आप पूछें कि विजेता बनना और दुनिया भर में लोकप्रियता कमाने का मतलब क्या होता है, तो वे सिर्फ मुस्कुरा भर देंगी। वे जानती हैं कि जीत सिर्फ आदमी को विजेता ही नहीं बनाती बल्कि उसे जिंदगी को समझकर दुनिया में खुद को बनाए रखने के गुर भी सिखाती है। इसी सीख के चलते आज शिल्पा के पास दम मारने की भी फुर्सत नहीं है। कभी वे लंदन के कॉमनवेल्थ डे पर स्पीच देने में मशगूल रहती हैं और कभी हॉलीवुड के मशहूर फिल्मकार बिल बैनरमैन की फिल्म “अनवील्ड’ में एक मुस्लिम महिला की भूमिका निभाती हैं। हालॉंकि वे अपने लंदन के दोस्त राज कुंद्रा के साथ संबंधों को लेकर ज्यादा चर्चा नहीं करतीं। वे अपने प्रोडक्शन हाउस को लेकर ज्यादा उत्साहित दिखती हैं।

शिल्पा कैसा अनुभव और नयी शुरुआत है यह? आप पहले बिग ब्रदर में विजेता बनीं और अब उसी के भारतीय संस्करण में आप इस शो की एक एंकर हैं?

पिछले एक साल से अनुभवों के बारे में बात करने के लिए मेरे पास शब्दों की कमी हो गई है, लेकिन यह मेरे लिए नया अनुभव नहीं है। हॉं खुद को साबित करने का मौका ़जरूर है।

अनुमान है कि आपके पास करीब सौ करोड़ रुपये इकट्ठे हो गए हैं?

(हंसती हैं) आप भी थोड़े ले लीजिए। ऐसा नहीं है। हॉं, पहले से कुछ ज्यादा ़जरूर हो गए हैं। मेरे लिए पैसा अहमियत नहीं रखता। बिग ब्रदर में जो मुद्दा सामने आया उससे लोगों को रंगभेद जैसे विषय पर सोचने का मौका मिला। अब बिग बॉस में उससे जरा अलग सोचने का मौका मिल रहा है।

आपकी हॉलीवुड की फिल्म अनवील्ड को लेकर भी चर्चा हो रही है?

जब आदमी ऊँचाई पर होता है तो उसके पास मौकों और प्रस्तावों की कमी नहीं रहती, पर मैं ़जमीन पर रहकर मौकों का फायदा उठाना चाहती हूँ।

यह शो भी पहले अरशद कर रहे थे, आपको लगता है कि आप उनसे कुछ अलग कर रही हैं?

मैं अभिनेत्री हूँ और वे अभिनेता। सो यह अलग तो वैसे ही है। मैंने पहले वाला शो भी देखा है। बॉलीवुड और हॉलीवुड में मेरे पास भी ऐसे आफर्स आ रहे हैं, जिन पर मैं विचार कर रही हूँ।

पर आपने “अपने’ और “मैटो’ के बाद आगे क्यों नहीं सोचा?

मैं लगातार व्यस्त हो गयी थी, लेकिन अब फिर दोस्ताना और फोर एवर जैसी फिल्में कर रही हूँ।

आपने अपनी बहन शमिता के साथ मिलकर जो प्रोडक्शन हाउस बनाया है, उसमें टीवी शो शामिल हैं या सिर्फ फिल्में ही बनाएंगी?

ऐसी बात नहीं है। मैं टीवी से प्रभावित हूँ। टीवी और फिल्मों में अब ज्यादा अंतर नहीं रह गया है। मुझे अमेरिका के अमेरिकाज नेक्स्ट टॉप मॉडल जैसे शोज पसंद हैं। हमारे यहॉं ऐसे शो कम बनते हैं। फिर भी यदि कोई बेहतर आयडिया मिला तो ़जरूर सोचूंगी।

विजेता हस्तियों से सामाजिक तौर पर कुछ जिम्मेदार कामों को निभाने की उम्मीद की जाती है। आप क्या कर रही हैं?

मैं एड्स के रोगियों के लिए काम कर रही हूँ। मैंने कुछ समय पहले रेवती की फिल्म फिर मिलेंगे में तमन्ना साहनी नाम की एक एड्स रोगी का चरित्र निभाया था। मैं जानती हूँ उनका दर्द क्या होता है?

आप मानती हैं कि अगर आपने बिग ब्रदर में हिस्सा न लिया होता तो आप शायद आज जो हैं, वह नहीं होतीं?

(हंसती हैं) पता नहीं पर इसके लिए मैं भगवान की शुागुजार हूँ। मैंने अपना कॅरियर बा़जीगर से शुरू किया था और उसके बाद मैं अनाड़ी तू खिलाड़ी जैसी हिट फिल्म दी थी, लेकिन धड़कन के बाद कुछ सही नहीं रहा। मैंने कुछ ऐसी फिल्में भी कीं जो शायद मुझे नहीं करनी चाहिए थीं। अब सोचती हूँ कि जो होता है वह अच्छे के लिए ही होता है।

विजेता बनने के बाद आप टीवी शोज भी कर रही थीं?

हॉं, वे सब विदेशी शो थे जिनमें मैं अपनी ही भूमिका निभा रही थी। ये ज्यादातर टॉक शो थे और कुछ के विशेष, एपिसोड किए। इनमें द मार्निंग, ााइडे नाइट विद जोनाथन और लूज वीमेन जैसे शो हैं।

 

– शिल्पा शेट्टी

Leave a Reply

Your email address will not be published.